Essay In Hindi On Republic Day In Trinidad

भारत के लोगों के लिये गणतंत्र दिवस एक महत्वपूर्णं दिन है इसलिये हम इसे हर साल 26 जनवरी 1950 से मना रहे है। चलिये, इस निबंध के द्वारा हम अपने बच्चों को इससे जुड़े इतिहास के बारे में अवगत कराते है। ये बेहद आसान शब्दों में लिखा गया है जिसे बच्चे आसानी से समझ सकेंगे साथ ही अभिवाहकों को ये इंटरनेट पर विभिन्न शब्द सीमा के साथ उपलब्ध होगा।

भारतीय गणतंत्र दिवस पर निबंध (रिपब्लिक डे एस्से)

You can get here some essays on Republic Day in Hindi language for students in words limit of 100, 150, 200, 250, 300, and 400 words.

गणतंत्र दिवस पर निबंध 1 (100 शब्द)

26 जनवरी 1950, पूरा भारतवर्ष हर साल इस दिन को बड़े धूमधाम से मनाता है क्योंकि इसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। 26 जनवरी 1950 के इस खास दिन पर भारतीय संविधान ने शासकीय दस्तावेजों के रुप में भारत सरकार के 1935 के अधिनियम का स्थान ले लिया। भारत सरकार द्वारा इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया गया है। भारत के लोग इस महान दिन को अपने तरीके से मनाते है। इस दिन पर भारत के राष्ट्रपति के समक्ष नई दिल्ली के राजपथ (इंडिया गेट ) पर परेड का आयोजन होता है।

गणतंत्र दिवस पर निबंध 2 (150 शब्द)

जब पहली बार भारत को अपना संविधान मिला तब से भारत हर साल 26 जनवरी 1950 से गणतंत्र दिवस का उत्सव मना रहा है भारतीय इतिहास में गणतंत्र दिवस का बहुत महत्व है क्योंकि ये हमें भारतीय स्वतंत्रता से जुड़े हर-एक संघर्ष के बारे में बताता है। भारत की पूरी आजादी (पूर्णं स्वराज) की प्राप्ति के लिये लाहौर में रावी नदी के किनारे 1930 में इसी दिन भारत की आजादी के लिये लड़ने वाले लोगों ने प्रतिज्ञा की थी। जो 15 अगस्त 1947 को साकार हुआ।

26 जनवरी 1950 को, हमारा देश भारत संप्रभु, धर्मनिरपेक्ष, समाजवादी, और लोकतांत्रिक, गणराज्य के रुप में घोषित हुआ अर्थात भारत पर खुद का राज था उस पर कोई बाहरी शक्ति शासन नहीं करेगी। इस घोषणा के साथ ही दिल्ली के राजपथ पर भारत के राष्ट्रपति के द्वारा झंडा फहराया गया साथ ही परेड तथा राष्ट्रगान से पूरे भारत में जश्न का माहौल शुरु हो गया।

गणतंत्र दिवस पर निबंध 3 (200 शब्द)

गणतंत्र दिवस को 26 जनवरी भी कहा जाता है जो कि हर साल मनाया जाता है ये दिन हर भारतीयों के लिये मायने रखता है क्योंकि इसी दिन भारत को एक गणतांत्रिक देश घोषित किया गया था साथ ही आजादी के लंबे संघर्ष के बाद भारतीयों को अपनी कानूनी किताब ‘संविधान’ की प्राप्ति हुई थी। 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ और इसके ढ़ाई साल बाद ये लोकतांत्रिक गणराज्य के रुप में स्थापित हुआ।

आजादी के बाद एक ड्राफ्टिंग कमेटी को 28 अगस्त 1947 की मीटिंग में भारत के स्थायी संविधान का प्रारुप तैयार करने को कहा गया। 4 नवंबर 1947 को डॉ बी.आर.अंबेडकर की अध्यक्षता में भारतीय संविधान के प्रारुप को सदन में रखा गया। इसे पूरी तरह तैयार होने में लगभग तीन साल का समय लगा और आखिरकार इंतजार की घड़ी 26 जनवरी 1950 को इसको लागू होने के साथ ही खत्म हुई। साथ ही पूर्णं स्वराज की प्रतिज्ञा का भी सम्मान हुआ।

भारत में गणतंत्र दिवस का दिन राष्ट्रीय अवकाश के रुप में मनाया जाता है जब इस महान दिन का उत्सव लोग अपने-अपने तरीके से मनाते है, जैसे- समाचार देखकर, स्कूल में भाषण के द्वारा या भारत की आजादी से संबंधित किसी प्रतियोगिता में भाग लेकर आदि। इस दिन भारतीय सरकार द्वारा नई दिल्ली के राजपथ पर बहुत बड़ा कार्यक्रम रखा जाता है, जहाँ झंडारोहड़ और राष्ट्रगान के बाद भारत के राष्ट्रपति के समक्ष इंडिया गेट पर भारतीय सेना द्वारा परेड किया जाता है।


गणतंत्र दिवस पर निबंध 4 (250 शब्द)

हर साल 26 जनवरी को भारत अपना गणतंत्र दिवस मनाता है क्योंकि इसी दिन भारत का संविधान लागू हुआ था। इसे हम सभी राष्ट्रीय पर्व के रुप में मनाते है और इस दिन को राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया गया है। इसके अलावा गाँधी जयंती और स्वतंत्रता दिवस को भी राष्ट्रीय अवकाश घोषित किया गया है। भारतीय संसद में भारत के संविधान के लागू होते ही 26 जनवरी 1950 को हमारा देश पूरी तरह से को लोकतांत्रिक गणराज्य बन गया।

इस महान दिन पर भारतीय सेना द्वारा भव्य परेड किया जाता है जो सामान्यत: विजय चौक से शुरु होकर इंडिया गेट पर खत्म होता है। इस दौरान तीनों भारतीय सेनाओं (थल, जल, और नभ) द्वारा राष्ट्रपति को सलामी दी जाती है साथ ही सेना द्वारा अत्याधुनिक हथियारों और टैंकों का प्रदर्शन भी किया जाता है जो हमारे राष्ट्रीय शक्ति का प्रतीक है। आर्मी परेड के बाद देश के सभी राज्यों द्वारा झाँकियों के माध्यम से अपने संस्कृति और परंपरा की प्रस्तुति की जाती है। इसके बाद, भारतीय वायु सेना द्वारा हमारे राष्ट्रीय झंडे के रंगों (केसरिया, सफेद, और हरा) की तरह आसमान से फूलों की बारिश की जाती है।

इस दिन स्कूल-कॉलेजों में भी विद्यार्थी परेड, खेल, नाटक, भाषण, नृत्य, गायन, निबंध लेखन, सामाजिक अभियानों में मदद के द्वारा, स्वतंत्रता सेनानियों के किरदार निभा कर आदि बहुत सारी क्रियाओं द्वारा इस उत्सव को मनाते है। इस दिन हर भारतीय को अपने देश को शांतिपूर्णं और विकसित बनाने के लिये प्रतिज्ञा करनी चाहिये। और अंत में हर विद्यार्थी मिठाई और नमकीन लेकर खुशी-खुशी अपने घर को रवाना हो जाता है।

गणतंत्र दिवस पर निबंध 5 (300 शब्द)

भारत में हर साल 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रुप में जाना जाता है जो कि भारत के लोगों द्वारा बेहद खुशी और उत्साह के साथ मनाया जाता है। संप्रभु लोकतांत्रिक गणराज्य होने के महत्व को सम्मान देने के लिये इसको मनाया जाता है जो 26 जनवरी 1950 में भारत के संविधान के लागू होने के बाद घोषित किया गया था। इसे ब्रिटीश शासन से भारत की ऐतिहासिक आजादी को याद करने के लिये मनाया जाता है। इस दिन को भारत सरकार द्वारा पूरे देश में राजपत्रित अवकाश के रुप में घोषित किया गया है। इसे पूरे भारत वर्ष में विद्यार्थीयों द्वारा स्कूल, कॉलेजों और शिक्षण संस्थानों में मनाया जाता है।

भारत सरकार हर साल राष्ट्रीय राजधानी, नई दिल्ली में एक कार्यक्रम आयोजित करती है जिसमें इंडिया गेट पर खास परेड का आयोजन होता है। अल-सुबह ही इस महान कार्यक्रम को देखने के लिये लोग राजपथ पर इकट्ठा होने लगते है। इसमें तीनों सेनाएँ विजय चौक से अपनी परेड को शुरु करती है जिसमें तरह-तरह अस्त्र-शस्त्रों का भी प्रदर्शन किया जाता है। आर्मी बैंड, एन.सी.सी कैडेट्स और पुलिस बल भी विभिन्न धुनों के माध्यम से अपनी कला का प्रदर्शन करते है। राज्यों में भी इस उत्सव को राज्यपाल की मौजूदगी में बेहद शानदार तरीके से मनाया जाता है।

भारत में आजादी के बाद “विविधता में एकता” के अस्तित्व को दिखाने के लिये देश के विभिन्न राज्य भी खास झाँकियों के माध्यम से अपनी संस्कृति, परंपरा और प्रगति को प्रदर्शित करते है। लोगों द्वारा अपनी तरफ का लोक नृत्य प्रस्तुत किया जाता है साथ ही गायन, नृत्य और वाद्य यंत्रों को बजाया जाता है। कार्यक्रम के अंत में तीन रंगों(केसरिया, सफेद, और हरा) के फूलों की बारिश वायु सेना द्वारा की जाती है जो आकाश में राष्ट्रीय झंडे का चिन्ह् प्रदर्शित करता है। शांति को प्रदर्शित करने के लिये कुछ रंग-बिरंगे गुब्बारों को आकाश में छोड़ा जाता है।


 

गणतंत्र दिवस पर निबंध 6 (400 शब्द)

हमारी मातृभूमि भारत लंबे समय तक ब्रिटीश शासन की गुलाम रही जिसके दौरान भारतीय लोग ब्रिटीश शासन द्वारा बनाये गये कानूनों को मानने के लिये मजबूर थे, भारतीय स्वतंत्रता सेनानियों द्वारा लंबे संघर्ष के बाद अंतत: 15 अगस्त 1947 को भारत को आजादी मिली। लगभग ढाई साल बाद भारत ने अपना संविधान लागू किया और खुद को लोकतांत्रिक गणराज्य के रुप में घोषित किया। लगभग 2 साल 11 महीने और 18 दिनों के बाद 26 जनवरी 1950 को हमारी संसद द्वारा भारतीय संविधान को पास किया गया। खुद को संप्रभु, लोकतांत्रिक, गणराज्य घोषित करने के साथ ही भारत के लोगों द्वारा 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के रुप में मनाया जाने लगा।

भारत में निवास कर रहे लोगों और विदेश में रह रहे भारतीयों के लिय गणतंत्र दिवस का उत्सव मनाना सम्मान की बात है। इस दिन की खास महत्वता है और इसमें लोगों द्वारा कई सारे क्रिया-कलापों में भाग लेकर और उसे आयोजित करके पूरे उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाता है। इसका बार-बार हिस्सा बनने के लिये लोग इस दिन का बहुत उत्सुकता से इंतजार करते है। गणतंत्र दिवस समारोह की तैयारी एक महीन पहले से ही शुरु हो जाती है और इस दौरान सुरक्षा कारणों से इंडिया गेट पर लोगों की आवाजाही पर रोक लगा दी जाती है जिससे किसी तरह की अपराधिक घटना को होने से पहले रोका जा सके। इससे उस दिन वहाँ मौजूद लोगों की सुरक्षा भी सुनिश्चित हो जाती है।

पूरे भारत में इस दिन सभी राज्यों की राजधानीयों और राष्ट्रीय राजधानी नई दिल्ली में भी इस उत्सव पर खास प्रबंध किया जाता है। कार्यक्रम की शुरुआत राष्ट्रपति दवारा झंडा रोहण और राष्ट्रगान के साथ होता है। इसके बाद तीनों सेनाओं द्वारा परेड, राज्यों की झाकियोँ की प्रदर्शनी, पुरस्कार वितरण, मार्च पास्ट आदि क्रियाएँ होती है। और अंत में पूरा वातावरण “जन गण मन गण” से गूँज उठता है।

इस पर्व को मनाने के लिये स्कूल और कॉलेज के विद्यार्थी बेहद उत्साहित रहते है और इसकी तैयारी एक महीने पहले से ही शरु कर देते है। इस दिन विद्यार्थीयों अकादमी में, खेल या शिक्षा के दूसरे क्षेत्रों में बेहतर प्रदर्शन करने के लिये पुरस्कार, इनाम, तथा प्रमाण पत्र आदि से सम्मान किया जाता है। पारिवारिक लोग इस दिन अपने दोस्त, परिवार,और बच्चों के साथ सामाजिक स्थानों पर आयोजित कार्यक्रमों में हिस्सा लेकर मनाते है। सभी सुबह 8 बजे से पहले राजपथ पर होने वाले कार्यक्रम को टी.वी पर देखने के लिये तैयार हो जाते है। इस दिन सभी को ये वादा करना चाहिये कि वो अपने देश के संविधान की सुरक्षा करेंगे, देश की समरसता और शांति को बनाए रखेंगे साथ ही देश के विकास में सहयोग करेंगे।

 

सम्बंधित जानकारी:

गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस पर भाषण

गणतंत्र दिवस पर कविता

गणतंत्र दिवस परेड

राष्ट्र ध्वज


Previous Story

मातृ दिवस निबंध

Next Story

विभिन्न उत्सवों पर निबंध

Mashramani, often abbreviated to "Mash", is an annual festival that celebrates Guyana becoming a Republic in 1970.[1] The festival, usually held on 23 February – Guyanese Republic Day – includes a parade, music, games and cooking and is intended to commemorate the "Birth of the Republic".[2] In 2016, the Mashramani parade was held on May 26, the 50th anniversary of Guyana's independence, but the remainder of the celebration was held on the tradition February date.[3]

The word "Mashramani" is derived from an Amerindian language and in Guyanese English means "celebration after cooperative work".[4] It is one of the most colourful of all the country's festivals, and one of the few that involves all Guyanese ethnic groups.[2] There are spectacular costume competitions, float parades, masquerade bands, and dancing in the streets to the accompaniment of steel band music and calypsos. Masquerades frequent the streets performing acrobatic dance routines, a vivid reminder of Guyana's African heritage. Calypso and chutney music competitions are another integral part of Mashramani, and this culminates in the coronation of a King or Queen for the particular year.[1]

Origin[edit]

The Jaycees of Linden had, since Guyana became independent in 1966, been organizing an Independence Carnival in Mackenzie. When Guyana became a Republic in February 1970, they formed a Jaycees Republic Celebrations Committee. Basil Butcher was selected as Chairman but due to his being selected to tour Australia with the West Indies Cricket Team, Jim Blackman was appointed as the Deputy to carry on. A broad based committee including resource personnel such as Wordsworth McAndrew, Arthur Seymour, and Adrian Thompson, began the organization of the Carnival activities.

The search for a name to replace Carnival began and it was suggested by Basil Butcher that an Amerindian name be chosen. This was agreed to and several individuals including Mr. Allan Fiedtkou, an Amerindian, were contacted. Mr. Fiedtkou held discussions with his grandfather who explained a type of Festival that was held by Amerindians whenever they gather to celebrate a special event. This event he said was like "Muster Many" (or Mashirimehi in Amerindian) and sounded in Arawak like Mashramani. Steps were taken to confirm this. Adrian Thomson concluded that since no one could have confirmed or denied that the Arawak word for Festival was Mashramani, then the Festival could be called Mashramani. On 23 February 1970 the Festival called "Mashramani" was a huge success with people drawn from all Regions of Guyana to Linden welcoming Guyana's status as a republic with over three days of frolic and fun.

After witnessing the massive crowds, glitter and level of competition, Mr. David Singh, a Government Official, held discussion with the Jaycees Committee about bringing the event to Georgetown, the nation's capital. Approval was also given by the then PresidentForbes Burnham for Mash to be a National Event for the Republic celebration. Mash activities were rotated in Linden, Berbice and Georgetown but due to sponsorship, the Costume Bands contest remained in Georgetown.

Celebration[edit]

This section needs expansion. You can help by adding to it.(February 2008)

With Guyana being as large as it is, people travel from miles out of town to be a part of the celebrations, with children, food and all, because they see this day as a day of celebration. The Mash Day depicts a hive of activity from Vlissingen and lrving streets all the way to the National Park, with an air of expectancy. Thousands of people summon to the streets to participate in the annual Mashramani celebrations, which has been a part of Guyanese culture for over 50 years.

Mashramani also includes Jouvert,which is the night before Carnival.The celebration involves calypso/soca bands and their followers dancing through the streets. The festival starts well before dawn and peaks a few hours after sunrise.

Jouvert was never a celebration in Guyana. This is the celebration before Carnival in Trinidad. Along with the adaptation of many alien festivals for example "Thanks Giving" some Guyanese now celebrate "Jouvert" the night before Mashramani. This is however merely a promotional gimmick for the promotes of music and sellers of alcohol

Carnival (Mashramani) dates[edit]

The table shows a list of Guyana Carnival (Mash) dates, 2013 to 2019.

Calendar YearDates
2013Sat 23 February
2014Sun 23 February
2015Mon 23 February
2016Thu 26 May
2017Thu 23 February
2018Fri 23 February
2019Sat 23 February

See also[edit]

External links[edit]

References[edit]

0 thoughts on “Essay In Hindi On Republic Day In Trinidad

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *